भारतीयों के पास 70 लाख करोड़ का सोना, ये देश के 2 साल के बजट से भी ज्यादा. (Bhartiyo ke pass 70 lakh cr. Ka sona .ye desh ke 2 sal ke bagat se bhi jayada) - id24news

id24news

देश दुनिया की खबरों और सूचनाओं के लिए देखते रहिये id24news.com

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Friday, 25 October 2019

भारतीयों के पास 70 लाख करोड़ का सोना, ये देश के 2 साल के बजट से भी ज्यादा. (Bhartiyo ke pass 70 lakh cr. Ka sona .ye desh ke 2 sal ke bagat se bhi jayada)

भारतीयों के पास 70 लाख करोड़ का सोना, ये देश के 2 साल के बजट से भी ज्यादा.(Bhartiyo ke pass 70 lakh cr. Ka sona .ye desh ke 2 sal ke bagat se bhi jayada)


नई दिल्ली. धनतेरस or Diwali का त्योहार आते ही देश में सोने की मांग बढ़ जाती है। देश में सोने की जितनी सालाना मांग रहती है, वह वैश्विक मांग की एक चौथाई है। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के प्रबंध निदेशक सोमसुंदरम पीआर ने बताया कि भारतीय घरों और मंदिरों में 24000 से 25000 टन सोना मौजूद है, जिसकी कीमत 1 ट्रिलियन डॉलर (करीब 70 लाख करोड़ रुपए) है। उनके मुताबिक, दुनियाभर में मौजूद कुल गोल्ड स्टॉक का 15% सिर्फ भारतीय घरों और मंदिरों में है। अमेरिका के केंद्रीय बैंक में 8,133.5 टन Sona है। भारतीयों के पास इससे करीब 3 गुना ज्यादा सोना है।

देश में सोने का उत्पादन 0.5% से भी कम, लेकिन मांग 25% से भी ज्यादा
चीन के बाद भारत दुनिया में सोने का सबसे बड़ा बाजार है। हालांकि, हमारे यहां सोने का उत्पादन 0.5% से भी कम होता है। लेकिन, डिमांड कुल वैश्विक मांग की 25% से भी ज्यादा है। सोमसुंदरम के मुताबिक पिछले 10 साल का ट्रेंड बताता है कि भारत में सालाना 800 से 900 टन सोने की मांग रहती है।

सोमसुंदरम ने बताया कि आने वाले 5 से 10 साल में भारत में सोने की mang और बढ़ेगी, क्योंकि अब भारत की जीडीपी और प्रति व्यक्ति आय तेजी से बढ़ रही है। isase ज्यादा से ज्यादा लोगों को गरीबी से बाहर आने में मदद मिल रही है। इस वजह से आने वाले समय में भारत में ज्यादातर लोग गरीबी रेखा से उठकर Madhayam वर्ग में आ जाएंगे और यही लोग भविष्य में सोने की मांग बढ़ाएंगे।

Gharo-मंदिरों me जितना सोना, वह 2 साल के बजट के बराबर
भारतीय घरों और मंदिरों में जितनी कीमत का सोना मौजूद है, वह देश के 2 साल के बजट से भी ज्यादा है। 2019-10 का बजट का 27,86,349 करोड़ रुपए है। टॉप-100 अमीर भारतीयों के पास 32.19 लाख करोड़ रुपए हैं। देश के लोगों के पास 70 लाख करोड़ रुपए का सोना है।
भारत में सोने की इतनी मांग क्यों?
एक जमाने में भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था, क्योंकि यहां सबसे ज्यादा सोना हुआ करता था। आज भी कई देशों की जीडीपी के बराबर सोना भारतीय घरों और mandiro में रखा हुआ है। लेकिन, हमारे देश में सोने की इतनी ज्यादा मांग का कारण क्या है? इस बारे me Somsundar बताते हैं कि सोना ही एकमात्र ऐसी संपत्ति है, जो आमतौर पर ghar की महिला के पास ही रहती है और इससे महिलाओं को वित्तीय स्वतंत्रता मिलती है।
Bharat me ऐतिहासिक रूप से सोने की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। देश में सोने की ज्यादा मांग होने के यह कारण भी हैं कि सोने को सुरक्षित घरेलू बचत के Tore पर रखा जाता है, जिससे महंगाई से निपटने में मदद मिलती है।
जरूरत padne पर सोने के बदले लोन भी लिया जा सकता है। सोना रखकर कृषि या गैर-कृषि ऋण आसानी से मिल जाता है। इन सबके अलावा घर में सोना रखने से Samajik और सांस्कृतिक परंपरा भी बनी रहती है।
भारत में सोने की मांग बढ़ने के कारण
1) शादी : भारत में सोने की 50% से ज्यादा मांग शादियों पर निर्भर है। देश में 25 साल से कम उम्र की 45% से ज्यादा आबादी रहती है और सालाना औसतन 1 करोड़ शादियां होती हैं। अगर औसत निकालें तो एक दुल्हन के लिए 200 ग्राम तक की ज्वेलरी खरीदी जाती है।
2) सेविंग्स रेट (बचत दर) : आईएमएफ को भारत में 2020 तक बचत दर 30% रहने की उम्मीद है। इसके बाद काम करने वालों की संख्या बढ़ने की संभावना भी है। Sampatti के तौर पर भारतीयों के बीच बैंक डिपॉजिट के बाद सोना दूसरी पसंद है।
3) आर्थिक विकास : भारत में 25 करोड़ से ज्यादा लोग बचत करते हैं और उनकी बचत सोने से शुरू होती है। इसलिए आर्थिक विकास और लोगों की समृद्धि बढ़ने पर Sone की मांग बढ़ सकती है, जिससे आयात भी बढ़ेगा।
4) आय : प्रति व्यक्ति आय 1% बढ़ती है तो sone की मांग भी 1% तक बढ़ जाती है। इसके अलावा शहरीकरण भी तेजी से हो रहा है, जिससे लोगों की आय बढ़ रही है।
5) सोने की कीमत : अगर सोने की कीमत 1% बढ़ती है, तो इसकी मांग 0.5% तक गिर जाती है। इसी तरह से सोने की कीमत 1% कम होती है तो मांग में 0.9% तक का इजाफा होता है। हालांकि, 2005 से 2015 के बीच 10 गुना कीमतें बढ़ने के बाद भी भारत में सोने की मांग 14% की सालाना दर से बढ़ी।  
6) महंगाई : अगर महंगाई 1% बढ़ती है तो सोने की मांग में 2.6% इजाफा हो जाता है। दुनियाभर के निवेशक महंगाई से निपटने के लिए सुरक्षित निवेश के तौर पर sone me पैसा लगाते हैं। ताकि, कम जोखिम में अच्छा रिटर्न मिल सके।
7) मानसून : सामान्य से 1% ज्यादा बारिश होने पर सोने की मांग 0.5% बढ़ जाती है। क्योंकि, मानसून कृषि क्षेत्र के लिए महत्वपूर्ण है। अच्छे मानसून से पैदावार बढ़ती है तो Gramin अर्थव्यवस्था में तेजी आती है। इससे सोने की मांग बढ़ती है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here